Illusory publicity of TDS in Drinking Water

 

पेयजल में टी.डी.एस. का भ्रामक प्रचार

 

पेयजल में TDS की मात्रा कितनी होनी चाहिए इसे लेकर कई विचार और प्रचार सुनने को मिलते हैं। परन्‍तु इस झूठे तथ्‍य/प्रचार में कोई सत्‍यता नहीं है। यदि इंटरनेट चलाना जानते हैं तो अपने एनरॉयड मोबाईल, लैपटॉप या पी.सी. पर यू-टयूब में TDS in Drinking Waterʼʼ सर्च करगें तो उस पर बहुत सारा विडियो आपको दिखेगी कि कम TDS का पानी पीने से ये रोग हो जाता है, ऐसा हो जाता है, वैसा हो जाता है, ज़हर है कम  TDS का पानी वगैरह… वगैरह  विडियो मिलेगा।

यह सब विडियो सच्‍चाई से कोसों दूर है। इन सब विडियो बनाने का एक ही मकसद होता है कि अधिक से अधिक view हो ताकि advertisement clip (4 to 5 second का) लग सके जिससे आमदनी हो। You Tube  पर 99% विडियो भ्रामक तथ्‍य के साथ होते हैं। इनका वैज्ञानिक तथ्‍यों से कोई लेना-देना नहीं है।

सही तथ्‍य है यह है कि शुद्ध पेयजल में 300 से कम की TDS वाली पानी को श्रेष्‍ठ या उत्‍कृष्‍ट जिसे अंग्रेजी में Excellent or Best कहा जाता है।

Drinking water, also known as potable water, is water that is safe to drink or to use for food preparation. The amount of drinking water required varies. It depends on physical activity, age, health issues, and environmental conditions.[1]  Americans, on average, drink one liter of water a day and 95% drink less than three liters per day.[2] For those who work in a hot climate, up to 16 liters a day may be required.[1] Water is essential for life.

–From Wikipedia, the free encyclopedia

यह बात सही है कि कम TDS वाली पानी में आवश्‍यक खनिज लवण आदि (essential mineral salt etc) की मात्रा कम हो जाती है, परन्‍तु जितनी आवश्‍यक खनिज की मात्रा पानी से मिलना चाहिए वह नहीं मिलने पर हमारा शरीर इसे भोजन से ग्रहण/प्राप्‍त कर लेता है। यह घबराने वाली बात नहीं है, जितना विडियो के माध्‍यम से भ्रम फैलाया गया है, उससे बिल्‍कुल डरने की बात नहीं है। यदि यह बात आपको सही प्रतीत नहीं होता है तो आप इंटरनेट पर सर्च कर देख लें। आपको कोई भी एक शोध पत्र या लेख नहीं मिलेगा जिसमें लिखा हो कि कम TDS वाली पानी हानिकारक है।

मेरा उद्देश्‍य लोगों तक सही जानकारी से रू-ब-रू कराना है ताकि ऐसे विडियो को देखने से बचें और अपना कीमती समय को बर्बाद न करें ।

यह लेख आपको कैसा लगा – कृपया अपना विचार कमेंट बॉक्‍स में जरूर दें।

आपको पेयजल से संबंधित किसी भी बात को जानना है तो भी उसके बारे में भी हमें आप अपने विचार इस ईमेल waterdropinfo@gmail.com पर भेज सकते हैं।

Leave a Comment